by

पत्रकारों के खिलाफ विशेषाधिकार हनन नोटिस का मामला पहुंचा सुप्रीम कोर्ट

उत्तर प्रदेश विधानसभा में एक निजी चैनल के पत्रकारों के खिलाफ जारी विशेषाधिकार हनन नोटिस का मामला अब सुप्रीम कोर्ट पहुंच गया है। यूपी विधानसभा द्वारा जारी विशेषाधिकार हनन नोटिस को पत्रकारों ने सुप्रीम कोर्ट के समक्ष चुनौती देते हुए एक याचिका मंगलवार को दायर की है। सुप्रीम कोर्ट इस याचिका पर जल्द सुनवाई को तैयार हो गई है।

उल्लेाखनीय है कि मुजफ्फरपुर नगर दंगों को लेकर निजी चैनल के स्टिंग में उत्तर प्रदेश के मंत्री आजम खान की भूमिका पर सवाल खड़े किए गए थे। जिसको लेकर राज्यई सरकार द्वारा एक कमेटी का गठन किया गया था और जांच के बाद कमेटी ने इन पत्रकारों को विशेषाधिकार हनन का दोषी पाया था।

कमेटी की रिपोर्ट के आधार पर यूपी विधानसभा ने निजी चैनल के पत्रकार व उसके संपादक को विशेषाधिकार हनन का नोटिस जारी किया था। पिछले सप्ताह यूपी विधानसभा ने पत्रकारों को 7 दिन का अतिरिक्त समय और दिया था ताकि वो अपना जवाब दाखिल कर सके। साथ ही 4 मार्च को 12.30 पर इन पत्रकारों को विधानसभा में पेश होने को कहा है।