by

जल्द पैसा कमाने के लिए

नई दिल्ली, । दिल्ली पुलिस की अपराध शाखा ने एक वाहन चोर गिरोह का भंडाफोड़ कर दो बदमाशों को गिरफ्तार किया है। गिरफ्तार आरोपियों की पहचान न्यू सीमापुरी निवासी आमिर उर्फ यामिन 22 और मुज्जफरनगर यूपी निवासी साजिद के रुप में हुई है। पुलिस ने उनकी गिरफ्तारी के बाद लोनी में हुए एक मुखबिर की हत्या के मामले समेत छह वाहन चोरी के मामले सुलझाने का दावा किया है। पुलिस ने उनके पास से एक देशी कट्टा दो जिंदा कारतूस और दो चोरी की बाइक बरामद की है। फिलहाल पुलिस आगे की कार्रवाई कर रही है। अपराध शाखा के डीसीपी संजय कुमार जैन ने बताया कि 8 अगस्त को शाखा के हेड कांस्टेबल प्रमोद कुमार को सूचना मिली कि दो कुख्यात वाहन चोर हथियार समेत गांधी नगर श्मशान घाट इलाके में आने वाले हैं। सूचना के बाद एडिशनल डीसीपी संजय भाटिया के नेतृत्व में टीम बनाई गई और छापमार दोनों को गिरफ्तार कर लिया गया। जांच के दौरान उनके पास से एक देशी कट्टा और चार जिंदा कारतूस बरामद हुआ। पूछताछ में पता चला कि अमिर कबाड़ी का काम करता है जबकि साजिद ईट भट्टे पर काम करता था। दोनों जल्द पैसे कमाने के लिए वाहन चोरी की वारदात को अंजाम देते थे। चोरी की बाइक यह यूपी में बेचते थे। पूछताछ में पता चला कि अमिर का भाई रामजनी यूपी का मॉस्ट वांटेड है और उसपर कई अपराधिक मामले दर्ज हैं। अमिर के भाई को मुज्जफरनगर निवासी अनिस ने पुलिस को गुप्त सूचना दे गिरफ्तार करवा दिया था। इस बात से नाराज अमिर ने अपने साथी सजिद और सलीम के साथ मिकर गत 9 जुलाई को लोनी के शराब की दुकान के पास शराब पीने के दौरान हत्या कर दी थी। अगले दिन का उसका शव राम पार्क लोनी में मिला था। फिलहाल पुलिस आगे की कार्रवाई कर रही है।

Leave a Reply